फूलों के स्वास्थ्य लाभ : कुछ फूल जो आपको कई तरह के स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं

यहाँ पर हम आपको कुछ फूलों की शक्ति के बारे में बताने वाले हैं, जो आपको कई तरह के स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। संक्रमण से लड़ने, ठंड के लक्षणों को कम करने, मूड को बेहतर बनाने, मुंहासों को दूर करने और बहुत कुछ स्वास्थ्य लाभ पाने के लिए आप इन हीलिंग फूलों की शक्ति का उपयोग कर सकते हैं।



Calendula (Pot Marigold)


केलैन्डयुला को गेंदा भी कहा जाता है, यह एक हीलिंग फ़्लावर है जिसमें प्राकृतिक एंटी-इंफ़्लामेटरी, एंटिफंगल और रोगाणुरोधी गुण होते हैं। यह त्वचा के लिए अत्यधिक लाभकारी माना जाता है। त्वचा में मामूली कट लगने, खरोंच और जलन होने पर दुकान से कोई दवाई लेने के स्थान पर इसके जीवाणु रोधी मलहम और क्रीम का उपयोग किया जा सकता है।


इंटरनेशनल जर्नल ऑफ टिश्यू रिएक्शन्स के एक अध्ययन में पाया गया कि अगर कैलेंडुला मरहम को तीन हफ़्ते तक लगाया जाए तो, यह 'वीनस लेग अल्सर' को कम करने में मदद करता है।


कैलेंडुला का उपयोग कई प्रकार की त्वचा की स्थितियों से छुटकारा पाने के लिए किया जा सकता है जो शुष्क, खुजली या परेशान क्षेत्रों का कारण बन सकती हैं। यह त्वचा से एक्जिमा, डर्मेटाइटिस और डैंड्रफ के लक्षणों को कम करता है। कोलेजन के उत्पादन को बढ़ावा देकर, चमकती त्वचा के लिए एक आवश्यक प्रोटीन वाला कैलेंडुला, हाइड्रेटेड त्वचा को बनाए रखने में सहायता करता है।


Echinacea (एकीनेसिया)


सदियों से Echinacea का उपयोग औषधीय रूप से किया जाता रहा है। अगर सर्दी के शुरू होने यानि बीमारी के पहले संकेत पर इसे लिया जाए तो यह आम सर्दी के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।


यह अपने जीवाणुरोधी गुणों के लिए प्रसिद्ध है। इस खूबसूरत बैंगनी शंकुधारी फूल में ऐसे यौगिक भी होते हैं, जो चिंता को कम करने, सूजन को कम करने और मुँहासे और एक्जिमा में सुधार करने में मदद करते हैं।


रोज़हिप


चिली में पाए जाने वाले ख़ास गुलाब 'रोजा कैनिना' के फल से तैयार किया जाने वाले रोज़हिप ऑयल में ओमेगा-3 और ओमेगा-6 फैटी एसिड अत्यधिक मात्रा में पाया जाता है। ये फायदेमंद फैटी एसिड त्वचा की कोशिकाओं की मरम्मत और पुन: उत्पन्न करने में मदद कर सकते हैं।


अगर किसी की स्किन में कुछ निशान, जलन हो या उम्र के धब्बे उपस्थित हूँ तो उसे रोज़हिप आयल से फ़ायदा होगा। क्योंकि इसके तेल में बीटा-कैरोटीन और ट्रेटिनॉइन होता है, यह एक रेटिनोइक एसिड है, जो स्किन में लाइनों, झुर्रियों और उम्र बढ़ने के अन्य लक्षणों को कम करने में मदद करता है।


इसे भी पढ़ें : रोज़हिप ऑयल क्या है और इसके क्या फ़ायदे हैं?


Geranium


तैलीय त्वचा को संतुलित करने के लिए, अपने स्किनकेयर उत्पादों में जेरेनियम की कुछ बूंदें मिलाएं, जो स्किन में तेल उत्पादन को नियंत्रित करने में मदद करती हैं और मुंहासों को कम करती हैं। Geranium में एंटी-इंफ़्लामेटरी, एंटि-फंगल और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। यह त्वचा की लोच में भी सुधार करता है और झुर्रियों को कम करता है। जेरेनियम की सुगंध उत्थानशील है और तनाव को कम कर सकती है।


St. John’s Wort


St. John’s Wort के फूल अवसाद के लिए सबसे प्रभावी प्राकृतिक उपचारों में से एक है। अध्ययनों में पाया गया है कि यह अवसाद के लिए कुछ नुस्खे वाली दवाओं से बेहतर काम करता है और इसके कम दुष्प्रभाव होते हैं। सेंट जॉन का पौधा अपने जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गुणों के लिए बेशकीमती है।


मामूली जलन, कट और खरोंच पर भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। आप स्किन में हुए घाव में भी सेंट जॉन पौधे का तेल लगा सकते हैं। ध्यान रखें : सेंट जॉन पौधा का तेल मौखिक गर्भ निरोधकों और कीमोथेरेपी दवाओं सहित कई दवाओं की प्रभावशीलता को कम कर सकता है, इसलिए आप इसका इस्तेमाल ऊपर बताई गई दोनों कंडिशन में नही करें।


Lavender (लैवेंडर)


चिंता को कम करने से लेकर मूड बढ़ाने से लेकर मुंहासों को दूर करने तक लैवेंडर के फायदे अनंत हैं। कार्यस्थल की चिंता को कम करने और तनाव को दूर करने के लिए कई अध्ययनों में लैवेंडर की गंध को फ़ायदेमंद पाया गया है। साथ ही यह खाने योग्य भी है। लैवेंडर व्यंजनों में पुष्प की हल्की सुगंध जोड़ता है, और यह विशेष रूप से साइट्रस के साथ काम करता है, जैसा कि इस साधारण नींबू पानी में है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.