ISRO News : इसरो का PSLV-C52 मिशन सफल तीन उपग्रहों को ऑर्बिट में किया स्थापित

ISRO News (Indian Defence News Live) : इसरो के ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी52 (Polar Satellite Launch Vehicle PSLV-C52) का सोमवार सुबह 5.59 बजे निर्धारित समय पर सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र, श्रीहरिकोटा के First Launch Pad से प्रक्षेपण किया गया। इस लॉंच में ISRO ने तीन सैटेलाइट लॉंच किए हैं - "Earth Observation Satellite EOS-04 के साथ INSPIREsat-1 और INS-2TD"


PSLV C52 mission successful

ISRO का आज का मिशन 2022 का पहला स्पेस मिशन था जो सफल हो चुका है और भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ISRO ने तीनों सैटेलाइट को उनके ऑर्बिट में स्थापित कर दिया है।


भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के बयान के मुताबिक़ PSLV-C52 Launch Vehicle ने EOS-04 सैटेलाइट को सुबह 06:17 बजे 529 किमी ऊंचाई की एक इच्छित सूर्य-तुल्यकालिक ध्रुवीय कक्षा (Sun-Synchronous Polar Orbit) में इंजेक्ट किया था। इसका वजन 1,710 किलो है।


EOS-04 एक रडार इमेजिंग सैटेलाइट है जिसे सभी मौसमों में उच्च-गुणवत्ता वाली फोटो प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इन फोटो का उपयोग कृषि, वानिकी और वृक्षारोपण, मिट्टी की नमी और जल विज्ञान और बाढ़ मानचित्रण के लिए किया जा सकता है।


Indian Institute of Space Science & Technology (IIST) के स्टूडेंट्स ने कोलोराडो विश्वविद्यालय के Laboratory of Atmospheric & Space Physics के सहयोग से INSPIREsat-1 सैटेलाइट को विकसित किया था। NTU (Singapore) और NCU (Taiwan) ने भी इस सैटेलाइट को बनाने में योगदान दिया था। इस उपग्रह में आयनोस्फीयर गतिकी और सूर्य की कोरोनल हीटिंग प्रक्रियाओं को समझने के लिए दो Scientific Payloads शामिल किए हैं।


इसके अलावा आज लॉंच किया गया एक सैटेलाइट INS-2B भारत और भूटान का संयुक्त उपग्रह है, जो एक प्रौद्योगिकी प्रदर्शन उपग्रह है। इसके पेलोड में एक थर्मल इमेजिंग कैमरा होने से, उपग्रह भूमि की सतह के तापमान, आर्द्रभूमि या झीलों के पानी की सतह के तापमान, वनस्पतियों (फसलों और जंगल) और थर्मल जड़ता (दिन और रात) का आकलन कर सकता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.